हम हैं आपके साथ

यह हमारी नवीनतम पोस्ट है:


कृपया हिंदी में लिखने के लिए यहाँ लिखे

आईये! हम अपनी राष्ट्रभाषा हिंदी में टिप्पणी लिखकर भारत माता की शान बढ़ाये.अगर आपको हिंदी में विचार/टिप्पणी/लेख लिखने में परेशानी हो रही हो. तब नीचे दिए बॉक्स में रोमन लिपि में लिखकर स्पेस दें. फिर आपका वो शब्द हिंदी में बदल जाएगा. उदाहरण के तौर पर-tirthnkar mahavir लिखें और स्पेस दें आपका यह शब्द "तीर्थंकर महावीर" में बदल जायेगा. कृपया "आपको मुबारक हो" ब्लॉग पर विचार/टिप्पणी/लेख हिंदी में ही लिखें.

सोमवार, अक्तूबर 24, 2011

शुभदीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ !

र आंगन, हर चौखट पर, हर धड़कन, हर उम्मीद पर, हर शब्द और हर पन्ने पर जले प्यार की बाती "शकुन्तला प्रेस" परिवार की ओर से हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी शुभदीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ! झिलमिलाते दीपो की आभा से प्रकाशित, ये दीपावली आप सभी के घर में धन धान्य सुख समृद्धि और इश्वर के अनंत आर्शीवाद लेकर आये. दीप मल्लिका दीपावली -समस्त मित्रों के लिए परिवार के लिए सुख, समृद्धि, शांति व धन-वैभव दायक हो...इसी कामना के साथ...आपको और आपके परिवार को दीपावली की हार्दिक मंगलकामनाएं !"
       आपके घर में रौशनी की जगमग हो. स्वादिस्ट पकवान बनें और मिठाइयों का आदान-प्रदान हो. पूजा के दौरान श्री लक्ष्मी माता का आगमन हो. आपके चारों खुशियों का वातावरण हो. दु:खों-ग़मों और मुसीबतों का बेसरा बस मेरे घर तक ही सीमित हो. आपका व आपके परिवार का इनसे दूर-दूर तक कोई वास्ता भी न हो. इन्हीं मंगल कामनाओं के साथ...........एक फिर से "शकुन्तला प्रेस ऑफ़ इंडिया प्रकाशन" परिवार और "शकुन्तला एडवरटाईजिंग एजेंसी" की ओर से आप व आप सभी के परिवारों को दीपावली, गोबर्धन पूजा और भैया दूज की हार्दिक शुभकामनायें
        #आपका अपना शुभाकांक्षी-निष्पक्ष, निडर, अपराध विरोधी व आजाद विचारधारा वाला प्रकाशक, मुद्रक, संपादक, स्वतंत्र पत्रकार, कवि व लेखक रमेश कुमार जैन उर्फ़ "सिरफिरा" फ़ोन:09868262751, 09910350461

दोस्तों और देश के लिये मंगल कामनाये करते हुए जैन धर्म का केवल जल पीकर रखे जाने वाला व्रत रखकर और छोटे-छोटे जीवों की रक्षा करते बम-पटाखे ना बजाकर/चलाकर अपनी दीपावली मना रहा हूँ. आप दीपावली किस प्रकार मना रहे हैं ?
 महत्वपूर्ण संदेश-समय की मांग, हिंदी में काम. हिंदी के प्रयोग में संकोच कैसा,यह हमारी अपनी भाषा है. हिंदी में काम करके,राष्ट्र का सम्मान करें.हिन्दी का खूब प्रयोग करे. इससे हमारे देश की शान होती है. नेत्रदान महादान आज ही करें. आपके द्वारा किया रक्तदान किसी की जान बचा सकता है.

4 टिप्‍पणियां:

  1. आपको भी सपरिवार दीपावली की हार्दिक मंगल कामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  2. 'मैंने रोते हुए पोंछे थे किसी दिन आँसू
    मुद्दतों माँ ने धोया नहीं दुपट्टा अपना'

    उत्तर देंहटाएं
  3. दिव्या धन लक्ष्मी माला
    समस्त कामनाओं की पूर्ति हेतु
    शास्त्रों में अष्ट महालक्ष्मी का वर्णन मिलता हैं, जानिए कौन सी लक्ष्मी बनाएगी आपको मालामाल
    क्या आप जानते हैं शास्त्रों के अनुसार अलग-अलग इच्छाओं के लिए
    अलग-अलग महालक्ष्मी के रूप को पूजन का विधान बताया गया है। यदि
    हम धन चाहते हैं तो धन लक्ष्मी को पूजें और यदि हम खुद का घर
    चाहते हैं तो भवन लक्ष्मी को पूजें। इसी प्रकार अलग-अलग
    इच्छाओं के लिए अलग-अलग लक्ष्मी रूप हैं।
    ... सभी को अपार धन का मोह है और इसी मोहवश धन की देवी
    महालक्ष्मी की पूजा की जाती है। देवी महालक्ष्मी की कृपा
    प्राप्ति के लिए व्यक्ति कई तरह के प्रयास करता है। शास्त्रों
    के अनुसार महालक्ष्मी के आठ रूप बताए गए हैं। सभी रूपों का
    अलग-अलग महत्व है। जिस व्यक्ति की जो इच्छा होती है उसी के
    अनुरूप महालक्ष्मी की पूजा करने पर मनोकामनाएं जल्दी पूर्ण हो
    जाती हैं। ये रूप इस प्रकार हैं...
    -:धन लक्ष्मी:-(दिव्या धन लक्ष्मी माला) धारण कर लक्ष्मी के इस
    रूप की साधना करने से लगातार धन की प्राप्ति होती है।
    -:यश लक्ष्मी:-(दिव्या धन लक्ष्मी माला) धारण कर लक्ष्मी के इस
    रूप की पूजा करने से समाज में मान-सम्मान, यश, प्रसिद्धि,
    प्रतिष्ठा की प्राप्ति होती है -:आयु लक्ष्मी:-(दिव्या धन
    लक्ष्मी माला) धारण कर लक्ष्मी के इस स्वरूप की साधना से
    दीर्घायु एवं स्वास्थ्य प्राप्त होता है। उपासक निरोगी रहता है
    और सुंदर शरीर वाला बना रहता है।
    -:वाहन लक्ष्मी:-(दिव्या धन लक्ष्मी माला) धारण कर : लक्ष्मी
    के इस रूप की उपासना करने से व्यक्ति को वाहनों का सुख प्राप्त
    होता है। व्यक्ति को सभी भौतिक सुखों की प्राप्ति होती
    है।-:स्थिर लक्ष्मी:-(दिव्या धन लक्ष्मी माला) धारण कर लक्ष्मी
    के इस स्वरूप के पूजन से व्यक्ति के घर में अपार धन संपदा सदैव
    बनी रहती है।
    गृह लक्ष्मी:-(दिव्या धन लक्ष्मी माला)धारण कर लक्ष्मी के इस
    रूप की पूजा करने से व्यक्ति को सर्वगुण संपन्न पत्नी की
    प्राप्ति होती है। गृह लक्ष्मी की आराधना से सुंदर, सु-विचारों
    वाली पत्नी की प्राप्ति होती है। -:संतान लक्ष्मी:- (दिव्या धन
    लक्ष्मी माला ) धारण कर : देवी के इस रूप को पूजने से भक्त को
    सद् बुद्धि वाली संतान की प्राप्ति होती है। ऐसी संतान
    माता-पिता का नाम रोशन करने वाली! होती है।
    -:भवन लक्ष्मी:- यदि आपको अपना खुद का घर बनवाना है तो ( दिव्या
    धन लक्ष्मी माला ) धारण कर आप भवन लक्ष्मी की पूजा करें, बहुत
    जल्द आपका खुद का घर बन जाएगा। ************** जय लक्ष्मी
    माता, मैया जय लक्ष्मी माता । तुमको निशदिन सेवत, हर विष्णु
    धाता ।। इतिश्री............. प्राप्त करें. ज्ञानसागर प्रताप
    जी महाराज 09166999470 + 09166999472

    उत्तर देंहटाएं
  4. दिव्या धन लक्ष्मी माला
    समस्त कामनाओं की पूर्ति हेतु
    शास्त्रों में अष्ट महालक्ष्मी का वर्णन मिलता हैं, जानिए कौन सी लक्ष्मी बनाएगी आपको मालामाल
    क्या आप जानते हैं शास्त्रों के अनुसार अलग-अलग इच्छाओं के लिए
    अलग-अलग महालक्ष्मी के रूप को पूजन का विधान बताया गया है। यदि
    हम धन चाहते हैं तो धन लक्ष्मी को पूजें और यदि हम खुद का घर
    चाहते हैं तो भवन लक्ष्मी को पूजें। इसी प्रकार अलग-अलग
    इच्छाओं के लिए अलग-अलग लक्ष्मी रूप हैं।
    ... सभी को अपार धन का मोह है और इसी मोहवश धन की देवी
    महालक्ष्मी की पूजा की जाती है। देवी महालक्ष्मी की कृपा
    प्राप्ति के लिए व्यक्ति कई तरह के प्रयास करता है। शास्त्रों
    के अनुसार महालक्ष्मी के आठ रूप बताए गए हैं। सभी रूपों का
    अलग-अलग महत्व है। जिस व्यक्ति की जो इच्छा होती है उसी के
    अनुरूप महालक्ष्मी की पूजा करने पर मनोकामनाएं जल्दी पूर्ण हो
    जाती हैं। ये रूप इस प्रकार हैं...
    -:धन लक्ष्मी:-(दिव्या धन लक्ष्मी माला) धारण कर लक्ष्मी के इस
    रूप की साधना करने से लगातार धन की प्राप्ति होती है।
    -:यश लक्ष्मी:-(दिव्या धन लक्ष्मी माला) धारण कर लक्ष्मी के इस
    रूप की पूजा करने से समाज में मान-सम्मान, यश, प्रसिद्धि,
    प्रतिष्ठा की प्राप्ति होती है -:आयु लक्ष्मी:-(दिव्या धन
    लक्ष्मी माला) धारण कर लक्ष्मी के इस स्वरूप की साधना से
    दीर्घायु एवं स्वास्थ्य प्राप्त होता है। उपासक निरोगी रहता है
    और सुंदर शरीर वाला बना रहता है।
    -:वाहन लक्ष्मी:-(दिव्या धन लक्ष्मी माला) धारण कर : लक्ष्मी
    के इस रूप की उपासना करने से व्यक्ति को वाहनों का सुख प्राप्त
    होता है। व्यक्ति को सभी भौतिक सुखों की प्राप्ति होती
    है।-:स्थिर लक्ष्मी:-(दिव्या धन लक्ष्मी माला) धारण कर लक्ष्मी
    के इस स्वरूप के पूजन से व्यक्ति के घर में अपार धन संपदा सदैव
    बनी रहती है।
    गृह लक्ष्मी:-(दिव्या धन लक्ष्मी माला)धारण कर लक्ष्मी के इस
    रूप की पूजा करने से व्यक्ति को सर्वगुण संपन्न पत्नी की
    प्राप्ति होती है। गृह लक्ष्मी की आराधना से सुंदर, सु-विचारों
    वाली पत्नी की प्राप्ति होती है। -:संतान लक्ष्मी:- (दिव्या धन
    लक्ष्मी माला ) धारण कर : देवी के इस रूप को पूजने से भक्त को
    सद् बुद्धि वाली संतान की प्राप्ति होती है। ऐसी संतान
    माता-पिता का नाम रोशन करने वाली! होती है।
    -:भवन लक्ष्मी:- यदि आपको अपना खुद का घर बनवाना है तो ( दिव्या
    धन लक्ष्मी माला ) धारण कर आप भवन लक्ष्मी की पूजा करें, बहुत
    जल्द आपका खुद का घर बन जाएगा। ************** जय लक्ष्मी
    माता, मैया जय लक्ष्मी माता । तुमको निशदिन सेवत, हर विष्णु
    धाता ।। इतिश्री............. प्राप्त करें. ज्ञानसागर प्रताप
    जी महाराज 09166999470 + 09166999472

    उत्तर देंहटाएं

अपने बहूमूल्य सुझाव व शिकायतें अवश्य भेजकर मेरा मार्गदर्शन करें. आप हमारी या हमारे ब्लोगों की आलोचनात्मक टिप्पणी करके हमारा मार्गदर्शन करें और हम आपकी आलोचनात्मक टिप्पणी का दिल की गहराईयों से स्वागत करने के साथ ही प्रकाशित करने का आपसे वादा करते हैं. आपको अपने विचारों की अभिव्यक्ति की पूरी स्वतंत्रता है. लेकिन आप सभी पाठकों और दोस्तों से हमारी विनम्र अनुरोध के साथ ही इच्छा हैं कि-आप अपनी टिप्पणियों में गुप्त अंगों का नाम लेते हुए और अपशब्दों का प्रयोग करते हुए टिप्पणी ना करें. मैं ऐसी टिप्पणियों को प्रकाशित नहीं करूँगा. आप स्वस्थ मानसिकता का परिचय देते हुए तर्क-वितर्क करते हुए हिंदी में टिप्पणी करें.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...