हम हैं आपके साथ

यह हमारी नवीनतम पोस्ट है:


कृपया हिंदी में लिखने के लिए यहाँ लिखे

आईये! हम अपनी राष्ट्रभाषा हिंदी में टिप्पणी लिखकर भारत माता की शान बढ़ाये.अगर आपको हिंदी में विचार/टिप्पणी/लेख लिखने में परेशानी हो रही हो. तब नीचे दिए बॉक्स में रोमन लिपि में लिखकर स्पेस दें. फिर आपका वो शब्द हिंदी में बदल जाएगा. उदाहरण के तौर पर-tirthnkar mahavir लिखें और स्पेस दें आपका यह शब्द "तीर्थंकर महावीर" में बदल जायेगा. कृपया "आपको मुबारक हो" ब्लॉग पर विचार/टिप्पणी/लेख हिंदी में ही लिखें.

गुरुवार, मार्च 14, 2013

छोटी बहन द्वारा शिक्षा


कल मेरा अपने भतीजे (अपने चाचा स्व. गोपी राम जैन जी के पोते प्रवीन जैन सपुत्र श्री सुभाष चन्द्र जैन) की शादी में जाना हुआ. कल मेरा काफी सालों बाद किसी शादी में पूरी रात रुकना हुआ. जिसमें शादी-विवाह की रस्मों को काफी नजदीक से देखने का सुअवसर मिला.जहाँ एक ओर शादी-विवाह में काफी हंसी-मजाक का दौर चलता है. वहीँ दूसरी ओर शादी-विवाह में शिक्षाप्रद, प्रेरणादायक बातों के साथ ही गमहीन मौहाल बन जाता है.  इसी प्रकार कल प्रवीन जैन की "ज्योति" से हुई शादी में फेरों के बाद जब वधू की छोटी बहन "शैफाली" ने बड़ी बहन को "शिक्षा" दी. बहुत सुंदर शब्दों में लिखी शिक्षा को जब पढकर सुनाया तब उस समय जहाँ एक ओर सभी बाराती-घरातियों ने खूब जोर से ताली बजाकर प्रंशसा की. वहीँ दूसरी ओर वधू "ज्योति" का एक-एक पंक्ति पर मन गमहीन हो गया, क्योकि जिस घर में सालों तक अपने छोटे-भाई के साथ खेली-कुदी थी. जिसे अपना घर कहती थी, अब वो पराया हो गया था. मगर जमाने की रीति यहीं है...इसलिए उसको छोड़कर जा रही थी.
           आज के समय में भाग-दौड भरी जिंदगी में आज किसी के पास बेटी को अच्छी शिक्षा देने का बहुत कम समय मिल पाता है. पहले के समय संयुक्त परिवार होते थें. उसमें बड़े बजुर्ग अपनी विदा होती बेटियों को अपने पति के साथ ही सास-ससुर, ननद-देवर आदि का मान-सम्मान रखने के साथ ही कहते थें कि-बेटी तुम्हारे हाथ में दो परिवार की "इज्जत" को बनाये रखने की जिम्मेदारी है. ऐसी ही कुछ पंक्तियाँ वधू की छोटी बहन "शैफाली" द्वारा अपनी शिक्षा के माध्यम कही. उस "शिक्षा" को एक बहुत-ही सुंदर ग्रीटिंग कार्ड में लिखा हुआ था. जो उसने शिक्षा पढ़ने के नेग (शगुन) लेने के बाद अपने जीजा श्री प्रवीन जैन को दे दिया था. उसी शिक्षा की उन चंद पंक्तियों के लिए आपके लिए प्रस्तुत कर रहा हूँ.
अपनी प्यारी बहन को एक बहन की शिक्षा, मेरी बहन मैं तुमसे ज्यादा तो नहीं जानती, मगर फिर भी....कुछ शब्दों द्वारा अपनी बात रखने का प्रयास किया है.  

 "दो फूल खिले दो ह्रदय मिले, दो कलियों ने श्रृंगार किया
   आज के दिन दो पथिकों ने, संग-संग चलना स्वीकार किया"

तर्ज:-जुदा तुमको करने की चाह नहीं है.......
मगर इस जमाने की रीति यहीं है.......

वर्षों तलक थी जहाँ तुम पली, 
हुआ घर वो पराया तुम्हारे लिए.
हमसे बिछुड़कर हमें ना भूलना, 
चाहत को हमारी ना रुसवा करना.
जुदा तुमको करने की चाह नहीं है.......

मगर इस जमाने की रीति यहीं है.......
सास-ससुर तेरे आज से बहना, 
मात-पिता हैं यह जानले बहना.
रहेगी जो इनकी सेवा में बनीं, 
तेरे मन की कलियाँ रहेगी खिली.
जुदा तुमको करने की चाह नहीं है.......

मगर इस जमाने की रीति यहीं है.......
ननद और तेरे वर के जो भ्राता, 
भाई-बहन का हुआ उनसे नाता.
करोगी जो इनको प्यार तुम यथा, 
इज्जत रहेगी तुम्हारी सदा.
जुदा तुमको करने की चाह नहीं है.......

मगर इस जमाने की रीति यहीं है.......
सबका यथायोग्य सत्कार करना, 
किसी का ना तुम अपमान करना.
सबको ही जो तुम प्रेम करोगी, 
भली तुम सभी को लगती रहोगी.
जुदा तुमको करने की चाह नहीं है.......

मगर इस जमाने की रीति यहीं है.......
सीता-सावित्री सी बनके दिखाना, 
यश तेरा गाएगा सारा जमाना.
पति की तुम सेवा करना सदा,
तुम्हारे लिए अब वहीँ देवता.
जुदा तुमको करने की चाह नहीं है.......

मगर इस जमाने की रीति यहीं है.......
अगर बदनसीबी से बुरे दिन जो आएँ, 
देख पांव तेरे ना कभी लड़खड़ाएँ.
ऐसे समय में भी खुश जो रहोगी, 
समझ लेना घड़ियाँ दुःख की टल जायेगी.
जुदा तुमको करने की चाह नहीं है.......

मगर इस जमाने की रीति यहीं है.......
जीजा जी हमारी यह बात ज़रा ध्यान से सुनना, 
ज्योति को हमारी बड़े प्यार से रखना.
नाज़ुक है फूल-सी है, लाडों में पली, 
हमारे घर की एक नन्हीं कली.

जुदा तुमको करने की चाह नहीं है.......
मगर इस जमाने की रीति यहीं है.......  
जीजा जी प्रार्थना हमारी स्वीकार कर लेना, 
राहों के काँटों को भी फूल कर देना.
यहीं हमारी एक विनती है इंकार ना करना, 
बहन को हमारी बड़े प्यार से रखना .

जुदा तुमको करने की चाह नहीं है......
.मगर इस जमाने की रीति यहीं है.......  
ज्योति की ज्योत सदा जलती रहेगी, 
प्रवीन को तू प्यारी सदा लगती रहेगी.
उम्र-भर का साथ है सात फेरों का बंधन, 
शैफाली चाहे सात जन्मों तक रहे यह संगम.
जुदा तुमको करने की चाह नहीं है.......

मगर इस जमाने की रीति यहीं है.......


 प्रवीन और ज्योति आपको हमारी तरफ से शादी की ढेरों शुभकामनाएं और हार्दिक बधाई, आने वाला प्रत्येक नया दिन, आपके जीवन में अनेकानेक सफलताएँ एवं अपार खुशियाँ लेकर आए !! इस अवसर पर ईश्वर से यही प्रार्थना है कि वह, वैभव, ऐश्वर्य, उन्नति, प्रगति, आदर्श, स्वास्थ्य, प्रसिद्धि और समृद्धि के साथ आजीवन आपको जीवन पथ पर गतिमान रखे !!! जीवन हर पल जीने, उत्साह उमंग के साथ उसे अनुभव करने का नाम है ! हर दिन का शुभारम्भ उत्साह के साथ ऐसे हो जैसे नया जन्म हो,दिन भर हर क्षण योगी की तरह जियो, जरा भी नकारात्मकता को प्रविष्ट मत होने दो ! सकारात्मक, सकारात्मक मात्र सकारात्मक ! यही तुम्हारा चिन्तन हो ! यह चिन्तन यदि दापंत्य जीवन के शुभारम्भ से ही अपनाने का संकल्प ले लो, तो तुम्हें सफलताओं के शीर्ष तक पहुँचने में ज्यादा विलम्ब न होगा !! ईश्वर करे आप में आनंद और उल्लास जगे.आपके सुखद व उज्जवल भविष्य की मंगलकामना ईश्वर से और हमारे गुरुसत्ता से करते हैं."हर दिन नया जन्म समझें, उसका सदुपयोग करें" सदैव आपका दापंत्य जीवन सुखमय रहे. परमपिता आपको रोग दोष मुक्त जीवन प्रदान कर दिर्घायु बनाये, माँ भारती की सेवा और रक्षा हेतु आपको और अधिक साहस,सामर्थ, इच्छाशक्ति प्रदान करें, आप प्रगति पथ पर निरंतर उन्नति प्राप्त करें, आपकी यश कीर्ति इस संसार के समस्त कोनों में सूर्य के प्रकाश की तरह ऊर्जा और चन्द्रमा के प्रकाश की भांति शीतलता प्रदान करें, दुःख, शोक, भय आपको छूकर भी ना निकले.उस सर्वशक्तिमान परमपिता परमेश्वर से यह प्रार्थना है कि आज की मेरी हर प्रार्थना को जो मैंने आपके लिए की है,वो पूर्ण हो.
शुभाकांक्षी-रमेश कुमार जैन

2 टिप्‍पणियां:

  1. दिव्या धन लक्ष्मी माला
    समस्त कामनाओं की पूर्ति हेतु
    शास्त्रों में अष्ट महालक्ष्मी का वर्णन मिलता हैं, जानिए कौन सी लक्ष्मी बनाएगी आपको मालामाल
    क्या आप जानते हैं शास्त्रों के अनुसार अलग-अलग इच्छाओं के लिए
    अलग-अलग महालक्ष्मी के रूप को पूजन का विधान बताया गया है। यदि
    हम धन चाहते हैं तो धन लक्ष्मी को पूजें और यदि हम खुद का घर
    चाहते हैं तो भवन लक्ष्मी को पूजें। इसी प्रकार अलग-अलग
    इच्छाओं के लिए अलग-अलग लक्ष्मी रूप हैं।
    ... सभी को अपार धन का मोह है और इसी मोहवश धन की देवी
    महालक्ष्मी की पूजा की जाती है। देवी महालक्ष्मी की कृपा
    प्राप्ति के लिए व्यक्ति कई तरह के प्रयास करता है। शास्त्रों
    के अनुसार महालक्ष्मी के आठ रूप बताए गए हैं। सभी रूपों का
    अलग-अलग महत्व है। जिस व्यक्ति की जो इच्छा होती है उसी के
    अनुरूप महालक्ष्मी की पूजा करने पर मनोकामनाएं जल्दी पूर्ण हो
    जाती हैं। ये रूप इस प्रकार हैं...
    -:धन लक्ष्मी:-(दिव्या धन लक्ष्मी माला) धारण कर लक्ष्मी के इस
    रूप की साधना करने से लगातार धन की प्राप्ति होती है।
    -:यश लक्ष्मी:-(दिव्या धन लक्ष्मी माला) धारण कर लक्ष्मी के इस
    रूप की पूजा करने से समाज में मान-सम्मान, यश, प्रसिद्धि,
    प्रतिष्ठा की प्राप्ति होती है -:आयु लक्ष्मी:-(दिव्या धन
    लक्ष्मी माला) धारण कर लक्ष्मी के इस स्वरूप की साधना से
    दीर्घायु एवं स्वास्थ्य प्राप्त होता है। उपासक निरोगी रहता है
    और सुंदर शरीर वाला बना रहता है।
    -:वाहन लक्ष्मी:-(दिव्या धन लक्ष्मी माला) धारण कर : लक्ष्मी
    के इस रूप की उपासना करने से व्यक्ति को वाहनों का सुख प्राप्त
    होता है। व्यक्ति को सभी भौतिक सुखों की प्राप्ति होती
    है।-:स्थिर लक्ष्मी:-(दिव्या धन लक्ष्मी माला) धारण कर लक्ष्मी
    के इस स्वरूप के पूजन से व्यक्ति के घर में अपार धन संपदा सदैव
    बनी रहती है।
    गृह लक्ष्मी:-(दिव्या धन लक्ष्मी माला)धारण कर लक्ष्मी के इस
    रूप की पूजा करने से व्यक्ति को सर्वगुण संपन्न पत्नी की
    प्राप्ति होती है। गृह लक्ष्मी की आराधना से सुंदर, सु-विचारों
    वाली पत्नी की प्राप्ति होती है। -:संतान लक्ष्मी:- (दिव्या धन
    लक्ष्मी माला ) धारण कर : देवी के इस रूप को पूजने से भक्त को
    सद् बुद्धि वाली संतान की प्राप्ति होती है। ऐसी संतान
    माता-पिता का नाम रोशन करने वाली! होती है।
    -:भवन लक्ष्मी:- यदि आपको अपना खुद का घर बनवाना है तो ( दिव्या
    धन लक्ष्मी माला ) धारण कर आप भवन लक्ष्मी की पूजा करें, बहुत
    जल्द आपका खुद का घर बन जाएगा। ************** जय लक्ष्मी
    माता, मैया जय लक्ष्मी माता । तुमको निशदिन सेवत, हर विष्णु
    धाता ।। इतिश्री............. प्राप्त करें. ज्ञानसागर प्रताप
    जी महाराज 09166999470 + 09166999472

    उत्तर देंहटाएं
  2. I want to to thank you for this wonderful read!! I absolutely enjoyed every
    bit of it. I have got you saved as a favorite to look at new stuff
    you post…

    My web-site: bpi 1mr 224g to

    उत्तर देंहटाएं

अपने बहूमूल्य सुझाव व शिकायतें अवश्य भेजकर मेरा मार्गदर्शन करें. आप हमारी या हमारे ब्लोगों की आलोचनात्मक टिप्पणी करके हमारा मार्गदर्शन करें और हम आपकी आलोचनात्मक टिप्पणी का दिल की गहराईयों से स्वागत करने के साथ ही प्रकाशित करने का आपसे वादा करते हैं. आपको अपने विचारों की अभिव्यक्ति की पूरी स्वतंत्रता है. लेकिन आप सभी पाठकों और दोस्तों से हमारी विनम्र अनुरोध के साथ ही इच्छा हैं कि-आप अपनी टिप्पणियों में गुप्त अंगों का नाम लेते हुए और अपशब्दों का प्रयोग करते हुए टिप्पणी ना करें. मैं ऐसी टिप्पणियों को प्रकाशित नहीं करूँगा. आप स्वस्थ मानसिकता का परिचय देते हुए तर्क-वितर्क करते हुए हिंदी में टिप्पणी करें.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...