हम हैं आपके साथ

यह हमारी नवीनतम पोस्ट है:


कृपया हिंदी में लिखने के लिए यहाँ लिखे

आईये! हम अपनी राष्ट्रभाषा हिंदी में टिप्पणी लिखकर भारत माता की शान बढ़ाये.अगर आपको हिंदी में विचार/टिप्पणी/लेख लिखने में परेशानी हो रही हो. तब नीचे दिए बॉक्स में रोमन लिपि में लिखकर स्पेस दें. फिर आपका वो शब्द हिंदी में बदल जाएगा. उदाहरण के तौर पर-tirthnkar mahavir लिखें और स्पेस दें आपका यह शब्द "तीर्थंकर महावीर" में बदल जायेगा. कृपया "आपको मुबारक हो" ब्लॉग पर विचार/टिप्पणी/लेख हिंदी में ही लिखें.

शनिवार, दिसंबर 24, 2011

कागज के रावण मत फूकों, जिन्दा रावण बहुत पड़े हैं

दोस्तों, फेसबुक पर डाले एक नोट को देखें. यह विजयदशमी के मौके पर डाला गया था. इस नोट पर आई टिप्पणियाँ भी बहुत गजब की थीं. आप यहाँ (http://www.facebook.com/note.php?note_id=241861105864534) पर क्लिक करके पढ़ सकते हैं.   

       हम दशहरे पर बुराई पर अच्छाई की विजय के प्रतीक के लिए कागज के रावण बहुत फूंकते हैं. मगर समाज की बुराईयों व भ्रष्टाचार के खिलाफ चुप बैठे रहते हैं. इसी व्यवस्था पर कवि स्व. मनोहर लाल "रत्नम" अपनी एक कविता में कहते हैं कि "अर्थ हमारे व्यर्थ हो रहे, कागज के पुतले और खड़े हैं. कागज के रावण मत फूकों, जिन्दा रावण बहुत पड़े हैं" आज हमें उठना होगा और समाज की बुराईयों व भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज बुलंद करनी होगी. हम सब में कही न कही आज भी रावण मौजूद है. हम कागज के रावण जलाते हैं. लेकिन हम अपने अंदर के रावण को नहीं मारना चाहते हैं. क्यों नहीं इस पावन दशहरा के अवसर पर हम अपने अन्दर रह रहे रावणरूपी दानव को जलाकर आओ हम सब असली दशहरा मनायें. क्या ख्याल है...........आपका ? आप सभी को और आपके परिवार को विजयादशमी की हार्दिक शुभकामनायें.

रमेश कुमार सिरफिरा द्वारा 6 अक्टूबर 2011 को 17:59 बजे पर

मौत आने तक सच लिखेंगी मेरी कलम
.

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

अपने बहूमूल्य सुझाव व शिकायतें अवश्य भेजकर मेरा मार्गदर्शन करें. आप हमारी या हमारे ब्लोगों की आलोचनात्मक टिप्पणी करके हमारा मार्गदर्शन करें और हम आपकी आलोचनात्मक टिप्पणी का दिल की गहराईयों से स्वागत करने के साथ ही प्रकाशित करने का आपसे वादा करते हैं. आपको अपने विचारों की अभिव्यक्ति की पूरी स्वतंत्रता है. लेकिन आप सभी पाठकों और दोस्तों से हमारी विनम्र अनुरोध के साथ ही इच्छा हैं कि-आप अपनी टिप्पणियों में गुप्त अंगों का नाम लेते हुए और अपशब्दों का प्रयोग करते हुए टिप्पणी ना करें. मैं ऐसी टिप्पणियों को प्रकाशित नहीं करूँगा. आप स्वस्थ मानसिकता का परिचय देते हुए तर्क-वितर्क करते हुए हिंदी में टिप्पणी करें.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...